On-Page SEO क्या है And केसे करे | Step by Step Beginners Guide SEO | SEO Course 2021

On-Page SEO क्या है?

On-Page SEO एक Website or Web Pages Optimization का Process है जिसके द्वारा हम Website या Web Pages की रैंकिंग Search Engine Result Page में बढ़ता है। साधारण भाषा में Web Pages को Optimize करने के तरीके को On-Page SEO कहते है। जो सर्च इंजन की गाइडलाइन्स है उसकये अनुसार अपनी वेबसाइट को Optimize करना ही On-Page Optimization है.

On-Page SEO कैसे करे?

On-Page SEO में वे तकनीकें शामिल हैं जिनका उपयोग हम अपने Website पेजों को ठीक करने और उन्हें SEO के अनुकूल बनाने के लिए कर सकते हैं ताकि Search Engine रैंकिंग में सुधार हो सके। On-Page SEO को वेबसाइट की आंतरिक संरचना और सामग्री की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए काम करना पड़ता है बहुत से SEO On-Page Factors हैं जिन पर हमें काम करना होता है ताकि ज्यादा से ज्यादा आर्गेनिक ट्रैफिक हमारी वेबसाइट तक पहुंचे। देखा जाए तो SEO On-Page ही वो है जो ऑर्गेनिक ट्रैफिक के आने या वेबसाइट की रैंकिंग में सबसे ज्यादा योगदान देता है। On-Page SEO 70% योगदान वेबसाइट रैंकिंग में, 20% Off-Page योगदान देता और 10%% बाकि फैक्टर होत्ये हैं.

Keyword research
Title, Headings Tags Optimization
URLs Optimization
Keyword Density
Optional labels for images
Meta Description
Speed Optimization
Duplicate Content Checking

On Page SEO Techniques in Hindi

1. Keyword Research:

Keyword Research एक प्रक्रिया जिसके द्वारा हम अपने वेबसाइट के लिए keywords का रिसर्च करते है जिसपे हम अपने वेबसाइट को रैंक करना चाहते है। जैसे की (On-Page SEO के बारे में जानने के लिए बहुत सारे लोग अलग अलग तरीको से सर्च करते होंगे जैसे कोई करता होगा On Page SEO क्या है, On-Page SEO कैसे करये, On Page SEO course in Hindi. ये सब कीवर्ड्स है जिनको हम टारगेट कृत्ये है. अलग-2 बिज़नेस के लिए अलग-2 keywords होते हैं. Google Keywords Planner Free Tool, Uber Suggest बहुत सीए टूल है जिनकी मदद सीए है keywords find कॉस्ट्ये हैं.

2. Title Tags:

Title Tag सबसे पहला और हाइलाइटेड कंटेंट है जो सबए ऊपर देखआए देता है जो Users को उसकी Query के बाद दीखता है और Title को देख कर ही Users ये decide करते की इस वेबसाइट लिंक पैर क्लिक करना है या नहीं। Title को देख कर ही Users वेबसाइट पे क्लिक करता है। इसीलिए मेरा मन्ना ये है की SEO Title Tag में हमारा Keyword होना चाहिए, जिसपे हम अपने Web Pages को Rank करा सकए, क्योकि Keyword वो Terms है जो कुछ ही Words में आपके पुरे Content को Describe कर देता है। इसीलिए हमारये अनुसार website और web-pages का Title को ऐसा होना चाहिए जिससे Users Attract हो जाये और Title देख कर Website में Enter करे। हमे Title में अपने Keywords को या Keyword Phrase को अपने Title में उपयोग करना चाहिए।

3. Headings Tags Optimization

आप website और web-pages जो content दालतये या जो Headings देतए हो वो ज्यादातर हमारे Main Keywords के ही बारे में होता है या Main Keywords Parts होता है तो हमे Headings में Keywords का उपयोग करना चाहिए ताकि Google को समझ आ पाए की आपने service देत्ये है ताकि वो यूजर को उसकए अकॉर्डिंग रिजल्ट शो कर सकये। अपनी कोशिस ये होनी चाइये के हैडिंग अट्रैक्टिव होना चाइये और जिसमये कीवर्ड भी उसे हुआ होना चाइये. किसी भी आर्टिकल में केवल 1 ही H1 होना चाहिए और फिर H2-H6, 5 – 7 ही होना चाइये।

4. URLs Optimization

URL Structure – जब हम कोई पेज और पोस्ट वेबसाइट क अन्दर बनत्ये हैं. और उस पेज और पोस्ट का URL हमरए keyword या जो टाइटल होता है उसकए according बनतये है उसी को URLs Structure Optimization कहते हैं और Link के नाम से जानते है। On Page SEO के अनुसार हमे अपने URL में Keyword रखना चाहिए जो हमए Search Engine Ranking में मदद करता है. For Example: अगर में “Increase Your Video Visibility by Gaining YouTube Subscribers” के लिए एक blog और कोई page create कर रहा हूँ. आपको अपने URL में Keywords के कुछ Words को जरूर डालना चाहिए।

5. Keyword Density:

Keyword Density बहुत ही जरुरी Term है, जिसका मतलब है की आपने एक Content में अपने Focus Keyword को कितने बार Use किया है उसे Keyword Density कहते है। SEO Expert के अनुसार हमे अपने Blog के words का 3% तक ही Keywords का उपयोग करना चाहिए। E.g. – अगर आपका Blog 1000 Words का है ुसमये ३% approximately 30 Times हुआ इससे ज्यादा बार use करना सही नई है.

6. Alt Tag:

Publish किये गए Content को तो Google के Crawler और Spider, Crewel और Index करतये है वो Content को पड़तये है, किस बारे में है लेकिन Images को कोई भी Search Engine नहीं पढ़ पाता है और ये नहीं पता लगा पता है की Images किस बारए में है इसलिए हम Images को Alt Tag Name देत्ये है ताकि Search Engine को पता लग जाए और users की query के according results show सकये.

7. Meta Description:

Meta Description पुरे Content का निचोड़ है जिसको पद कर हम ये जान लेटए है के क्या होता है ये एक blog, Article किसी website का सारांश होता है. जैसे की आपने देखा होगा Search करने पे Title के निचे 1-2 line मे लिखा हुआ होता है, उसे Meta Description कहते है। Meta Description की Length 160 Character होती है. SEO Experts के अनुसार Meta Title, Description और URL सभी में Keywords का use करए ताकि आपकी service सही सीए describe हो सकये। और Search Engine और user दोनों को understandable हो.

8. Website Speed:

Loading Speed, SEO मे बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण Ranking Factor बन गया है. Google Latest Core Web Vital Algorithm Update के अनुसार वेबसाइट की स्पीड बहुत इफ़ेक्ट डालती है वेबसाइट रैंकिंग में. Algorithm Update के अनुसार अगर किसी वेबसाइट की Loading Speed 0 – 0.25 सैकंड होनी चाइये। अगर स्पीड ेस्कए बिच है तो ठीक है नहीं तो improve करने की जरुरत है. ज्यादातर Website वही Rank करते है जिसका Loading Speed अच्छा है।

9. Content Delicacy:

Online Marketing, Blogging मे Content is the King. Article Rank होने के लिए ये बेहद जरुरी है की आपका Content unique हो। अगर अपनये duplicate content use किया है तो इसकी बजह से आपकी Website Rank नहीं हो पाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *